रायपुर में अचानक हुई ब्लॉगर मीट!

इंदौर की अर्चना चावजी रायपुर आई हुई हैं अपने स्कूल के बच्चों को ले कर सी.बी.एस.ई. के खो-खो टूर्नामेंट के लिए. राहुल सिंह जी ने इस मौके पर इरादा बनाया मुलाक़ात का और बुलावा भेजा एकाएक.

मैं और संजीव तिवारी जी भिलाई से रायपुर पहुंचे राहुल जी के ऑफिस. और वहीँ मुलाकात हुई अर्चना जी से, जिन्हें ले कर आये थे ललित शर्मा जी. यहाँ से राहुल सिंह जी के घर जाना था.

इसी बीच जी के अवधिया जी, छत्तीसगढ़ी सिनेमा के गायक /अभिनेता अनुज महोदय, छत्तीसगढ़ स्टेट वेयर हाउस कारपोरेशन के अध्यक्ष अशोक बजाज जी, स्वराज्य करूण जी भी आ गए.

हलकी फुल्की चर्चा के बीच विमोचन हुआ रामनामी सीडी का. चाय-नाश्ता तो चल ही रहा था. राहुल सिंह जी की फ़रमाईश पर अर्चन जी ने एक गीत भी गाया. फिर अनुज ने भी गीत सुनाए.

चित्र 1

raipur-blogger

blogger-raipur
तो इस तरह छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में आज, 3 अक्टूबर की शाम अचानक एक ब्लॉगर मीट का आयोजन हो गया.

अब बताना आपको है कि कौन कौन हैं चित्रों में? विस्तृत विवरण विभिन्न ब्लॉगों पर आता ही है समझिये

लेख का मूल्यांकन करें

रायपुर में अचानक हुई ब्लॉगर मीट!” पर 45 टिप्पणियाँ

  1. चित्र २ में है …
    अवधिया जी , ?????, ललित भाई , राहुल सिंह जी , अशोक जी , आप , संजीत जी , ????? और अर्चना जी … क्यों ठीक है ना ???

  2. जिन्दगी के मेले दुनिया में कम न होगें,
    खुशी यह है कि हम सबके संग ही होगें। 🙂
    टिप्पणीकर्ता ललित शर्मा ने हाल ही में लिखा है: रायफ़ल शुटिंग में श्रेयांसि ने जीता गोल्ड मेडल — ललित शर्माMy Profile

  3. Aap, Lalit Uncle, Rahul Uncle, Archana ji… inko to pahchanti hu… baaki ko ho sakta hai jaanti hu aur pahchaan na paa rahi hu… 😛

  4. इस चित्र में छत्तीसगढी एवं भोजपुरी फ़िल्मों के सुपर स्टार भी हैं, पहचानिए 🙂
    टिप्पणीकर्ता ललित शर्मा ने हाल ही में लिखा है: रायफ़ल शुटिंग में श्रेयांसि ने जीता गोल्ड मेडल — ललित शर्माMy Profile

  5. विजय भाई का नाम सब ही भूल जाते हैं और पाबला जी को देखते हैं तो लगता है कि नाम लिख दिया है जबकि वो मन में ही कहीं घूम रहा होता है। लोकार्पण के लिए बधाई, प्रति मेरे पास अवश्‍य भिजवा दीजिएगा।
    टिप्पणीकर्ता अविनाश वाचस्‍पति ने हाल ही में लिखा है: इतिहास से सरोकारMy Profile

  6. वाह बहुत खूब । मौका खास हो और दोस्त पास हो …फ़िर आगे क्या कहने । सब हिंदी ब्लॉगर्स पुरोधा हैं , सिर्फ़ दो जने को छोड कर सबको पहचान गए हैं
    टिप्पणीकर्ता अजय कुमार झा ने हाल ही में लिखा है: जनलोकपाल , जनांदोलन और जागता समाज ….१My Profile


  7. पाबला जी
    फोटो देख कर महसूस हुआ कि रायपुर में एक से एक प्रतिभा संपन्न लोगों से भरा पूरा परिवार जन्म ले चुका है !
    आप सब की प्रगाढ़ मित्रता और बौद्धिक सम्पन्नता के लिए शुभकामनायें!

  8. पाबला जी
    फोटो देख कर महसूस हुआ कि रायपुर में एक से एक प्रतिभा संपन्न लोगों से भरा पूरा परिवार जन्म ले चुका है !
    आप सब की प्रगाढ़ मित्रता और बौद्धिक सम्पन्नता के लिए शुभकामनायें!

  9. @ चित्र एक ,
    दो डाइड बालों के साथ एक वाइड बाल
    ( वास्ते रंगे हुए बनाम बेरंग बाल ) 🙂

    @ चित्र दो
    मध्य में एक सरदार और दूसरा असरदार 🙂
    एक छोर पर चश्मिश “अनुज” संजीव के साथ दो और चश्मिश अर्चना जी ,मित्र स्वराज्य करुण 🙂
    दूसरे छोर पर एक और “अनुज” के साथ तीन हीरो ब्लॉगर ललित जी ,अवधिया जी और सदाबहार राहुल सिंह जी 🙂

    @ तीसरा चित्र ,
    बड़े कद का नुकसान राहुल सिंह जी से बेहतर कौन जानेगा 🙂
    अशोक जी और पाबला जी के साथ संजीव की फोटो से पता चलता है कि छत्तीसगढ़ में ब्लागर हेल्थ का ग्राफ कैसा है 🙂

  10. चित्र क्रमांक एक में सफेद कमीज में छत्‍तीसगढ़ी लोककला के संरक्षक, प्रसिद्ध लोक प्रस्‍तुति ‘राजा फोकलवा’ के निदेशक, गायक, लोककलाकार श्री राकेश तिवारी जी एवं लाल कमीज में हबीब तनवीर जी के नया थियेटर के मुख्‍य आधार, बस्‍तर बैंड के प्रवर्तक एवं थियेटर व लोककला के विशेषज्ञ श्री अनूप रंजन पाण्‍डेय जी के साथ काले कमीज में पके बालों के साथ मैं.

    चित्र क्रमांक दो में बायें से अवधिया जी के बाजू में छत्‍तीसगढ़ी व भोजपुरी फिल्‍मों के सुपर स्‍टार अनुज शर्मा, बाकी ब्‍लॉग धुरंधरों से आप परिचित ही हैं.

    @ अविनाश वाचस्‍पति जी के ‘विजय’ को खोजें.
    @ शिवम भाई, संजीत नहीं संजीव.

  11. ये सभी अजीम शख्शियतें हीन ब्लॉग जगत की -अब क्या ये पहचाने को मुहताज है ….तुसी भी कमाल करते हो सरदार जी…..और जो जितना पीछे उतना ही बडप्पन वाला -:)
    टिप्पणीकर्ता arvind mishra ने हाल ही में लिखा है: अगर गया के पण्डे न होते तो फिर बुद्ध भी न होते …(बनारस से बोध गया और गया तक की एक ज्ञान यात्रा -3)My Profile

  12. लगता है, रायपुर से इतनी रात को भिलाई पहुँचने पर भी ब्लोगिंग में बिजी हो गए। धन्य हो पाबला जी!
    टिप्पणीकर्ता जी.के. अवधिया ने हाल ही में लिखा है: तैलंगाना तथा आन्ध्रप्रदेश के विषय में कुछ ऐतिहासिक तथ्यMy Profile

    • अवधिया जी!
      दिन को तो अपन ऑफ़िस समय में छूते नहीं
      रात को थोड़ा सा चख लेते हैं स्वाद ब्लॉगिंग का 😀

  13. सब बड़े खुश नज़र आ रहे हैं । ज़ाहिर है कि छत्तीसगढ़ वासियों में छत्तीस का आंकड़ा नहीं । 🙂

  14. shivam ji, sanjeet kahan hote is meet me, khabar hi nai ki bhai logon ne, bhale hi phone pe ye kahte rahte hain ki raipur aate hain to mulakat hogi….
    pabla ji ye line spcly aapke liye hai 😉
    anyways,
    badhai sabke is sasneh milan ki…. milte rahein jeete rahein sab…
    टिप्पणीकर्ता Sanjeet Tripathi ने हाल ही में लिखा है: मुख्यमंत्री को कलम के सिपाही का फिर एक पत्र, एक आग्रह-एक सुझावMy Profile

    • संजीत जी,
      केवल एक लाइन आपके लिए
      ‘मै तो मेहमान था’

      पुकार होने पर ऑफिस से ही
      भिलाई से चल वापस भिलाई केवल साढ़े चार घंटे में

इस लेख पर कुछ टिप्पणी करें, प्रतिक्रिया दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *


टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ