सन् 2020 तक दिमाग में फिट होने लगेंगे कम्प्यूटर!!

अगर आपके सोचने मात्र से ही कमरे की लाइट जल उठे, टीवी पर मनचाहा चैनल आ जाए या फिर कम्प्यूटर स्क्रीन पर टाइप होने लगे तो। क्या सोचने लगे आप, जी हां यह संभव है। वैज्ञानिकों ने एक ऐसे चिप का डिजाइन तैयार किया है, जिसके दिमाग में लगाने के बाद यह सब संभव हो जाएगा।

यह चिप दिमाग के बाहरी सतह पर लगाया जाता है और इसके साथ ही एक रिसीवर सर पर भी लगाया जाता है। यह रिसीवर चिप द्वारा भेजी गई सूचनाओं को ग्रहण करता है। चिप दिमाग में मौजूद नर्व सेल्स की गतिविधियों को समझ कर सूचनाएं सर पर लगे रिसीवर को वायरलेस माध्यम से भेज देता है। रिसीवर इन सूचनाओं के अनुसार टीवी, कम्प्यूटर आदि को आदेश भेज देता है। जैसे अगर दिमाग में आता है कि टीवी को बंद कर देना चाहिए तो इस सूचना को चिप सर पर लगे रिसीवर को भेज देता है और इसी के साथ रिसीवर टीवी में लगे सेन्सर को टीवी बंद करने का आदेश भेज देता है।




(इस तकनीक के प्रयोग का एक दिलचस्प वीडियो)


चिप को डिजाइन करने वाले वैज्ञानिक का कहना है कि इससे शारीरिक रूप से अक्षम व्यक्तियों को मदद मिलेगी। उन्होंने आगे कहा कि इस क्षेत्र में अमेरिका में कई रिसर्च चल रहे हैं, परंतु इनमें वायर्ड सेंसर का इस्तेमाल किया गया है, जबकि मेरे डिजाइन में वायरलेस सेंसर का इस्तेमाल किया गया है, इसमें संक्रमण का खतरा नहीं होता। गौरतलब है कि इससे पहले जापान के वैज्ञानिकों ने भी दिमाग की गतिविधियों को समझ कर चलने वाला व्हीलचेयर बनाया था।

समाचार आपको यहाँ मिल जाएगा।
लेख का मूल्यांकन करें

सन् 2020 तक दिमाग में फिट होने लगेंगे कम्प्यूटर!!” पर 14 टिप्पणियाँ

  1. pablaa ji achchhee jaankaaree dee
    aapne , dekhana ye hai ki iska sirf rachnatmak upyog hoga ya nahee

  2. पता नहीं क्यूं, आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस की ये दुनिया कुछ डराती सी है.

  3. खबर तो वाकई कमाल की है !!
    पाबला जी, अगर बुकिंग शुरू हो गई हो तो बताईये हम भी अपने लिए एक आर्डर बुक करा ही देते हैं 🙂

  4. पाबला जी हमे तो यह बन्दर खरीदना है .. कहाँ मिलेगा ?

  5. … प्रयास के सफ़ल होने का इंतजार !!!!

  6. बहुत ही अच्छी जानकारी ।सफल होने के इंतजार मे….

इस लेख पर कुछ टिप्पणी करें, प्रतिक्रिया दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *


टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ