सारे मर्द बेकार हो जायेंगे: क्योंकि ‘उनकी’ जरूरत ही नहीं होगी!

 

इस ख़बर से पता नहीं कितनी मानव-मादायों के दिलो-दिमाग में ‘ठंड’ पड़ जायेगी कि अब उन्हें अपनी जैविक जिम्मेदारी निभाने की हसरत पूरी करने के लिए किसी नर की आवश्यकता नही रहेगी।

भले ही बहस कितनी भी हो कि क्या, कभी, विज्ञान इंसान को आराम के साथ – साथ खुशियां भी बख्श सकता है। मगर ये सभी मानते हैं कि तकनीक ने हमारी जिंदगी को बेहतर किया है। अब विज्ञान के खाते में एक और उपलब्धि जुड़ने को है।

जर्मनी के हैम्बर्ग में साइंटिस्टों की टीम ने दावा किया है कि भविष्य में कृत्रिम वीर्य के जरिए ऐसे लोग भी पिता बन सकते हैं , जो तकनीकी तौर पर इसके लिए अक्षम हैं। रिसर्चरों की टीम के इस दावे का आधार है लैब में बना वह ‘द्रव्य’ जिसकी वजह से चुहिया गर्भवती हो गई।

बहरहाल इस नई खोज के बाद जैविक तौर पर मर्द बेकार हो जाएंगे, क्योंकि कृत्रिम वीर्य बनने के बाद औरतें पुरुषों के बिना भी गर्भ धारण कर मां बन सकती है। जर्मनी की गोएटिनगेन यूनिवर्सिटी के जेनेटिक वैज्ञानिक ने कृत्रिम स्पर्म से चूहों के तकरीबन 65 भ्रूण तैयार किए।

evolution

 

स्पर्म को चूहों की एंब्रियोनिक स्टेम सेल से विकसित किया गया था। इन भ्रूणों में से तकरीबन 12 चुहिया के बच्चे पैदा हुए। इस बारे में ह्यूमन जेनेटिक्स के डायरेक्टर वुल्फगैंग एंजेल ने बताया कि लैब में चुहिया के बच्चे बनाने में तो कामयाबी मिली है , लेकिन भ्रूणों के नष्ट होने की दर बहुत ज्यादा है।

इस तकनीक से आने वाले कल में, मानव-मादाएं भी स्वयं वीर्य की उत्पत्ति में सक्षम होंगीं। इससे अधिक जानकारी आपको यहाँ, यहाँ और यहाँ मिल जायेगी।

सारे मर्द बेकार हो जायेंगे: क्योंकि ‘उनकी’ जरूरत ही नहीं होगी!
4.1 (82.35%) 17 votes

सारे मर्द बेकार हो जायेंगे: क्योंकि ‘उनकी’ जरूरत ही नहीं होगी!” पर 9 टिप्पणियाँ

  1. मियां ना ओरत बेकार हो सकती हे ना मर्द, क्यो कि दोनो एक दुसरे के बिना अधुरे हे,कुछ अपवाद को छोड कर,दुनिया मे ९५% महिलाओ को पुरष की जरुरत हे, ओर ९५% पुरषॊ को स्त्री की ओर जो ५% बचे हे दोनो तरफ़ के उन्हे किसी की भी जरुरत नही,

  2. आज मर्दों की ज़रूरत ख़त्म हो जाने की बात चल रही है तो कल औरतों की भी ज़रूरत नहीं रहेगी पाँच से सात दशकों में विज्ञान हमें Artificaial Womb Incubator(कृत्रिम गर्भाशय) भी दे देगा…………….. फ़िर तो प्रजनन का काम मशीन वगैरह के ही जिम्मे ……………………. ………… वैसे भी आजकल ये सब इस ऑटोमेटिक ज़माने में मेन्युअली करना जमता नहीं

  3. अब भी कोन सी जरुरत है
    सारे काम तो मशीन से हो जाते हैं

    हर कामके लिए नोकर या मशीने तैयार हो रही है

    सेक्स टॉय मिल जाते है
    हर शै बिकाऊ है
    हर शै मिलती है
    पैसा फेंको तमाशा देखो

  4. अब भी कोन सी जरुरत है
    सारे काम तो मशीन से हो जाते हैं

    हर कामके लिए नोकर या मशीने तैयार हो रही है

    सेक्स टॉय मिल जाते है
    हर शै बिकाऊ है
    हर शै मिलती है
    पैसा फेंको तमाशा देखो

  5. अब भी कोन सी जरुरत है
    सारे काम तो मशीन से हो जाते हैं

    हर कामके लिए नोकर या मशीने तैयार हो रही है

    सेक्स टॉय मिल जाते है
    हर शै बिकाऊ है
    हर शै मिलती है
    पैसा फेंको तमाशा देखो

  6. अब भी कोन सी जरुरत है
    सारे काम तो मशीन से हो जाते हैं

    हर कामके लिए नोकर या मशीने तैयार हो रही है

    सेक्स टॉय मिल जाते है
    हर शै बिकाऊ है
    हर शै मिलती है
    पैसा फेंको तमाशा देखो

  7. अब भी कोन सी जरुरत है
    सारे काम तो मशीन से हो जाते हैं

    हर कामके लिए नोकर या मशीने तैयार हो रही है

    सेक्स टॉय मिल जाते है
    हर शै बिकाऊ है
    हर शै मिलती है
    पैसा फेंको तमाशा देखो

  8. अब भी कोन सी जरुरत है
    सारे काम तो मशीन से हो जाते हैं

    हर कामके लिए नोकर या मशीने तैयार हो रही है

    सेक्स टॉय मिल जाते है
    हर शै बिकाऊ है
    हर शै मिलती है
    पैसा फेंको तमाशा देखो

इस लेख पर कुछ टिप्पणी करें, प्रतिक्रिया दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *


टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ