सावधान! अगले एक सप्ताह तक इंटरनेट सेवायें गड़बड़ा सकती हैं

लीजिए ज़नाब! एक मायूस कर देने वाली खबर आई है कि इस सप्ताह, इटली के करीब समुद्र के अंदर केबल नेटवर्क में खामी की वजह से, भारत में ब्राडबैंड कनेक्शन सेवा प्रभावित हो सकती है। तकनीकी रूप से कहा जाए तो दक्षिण एशिया और यूरोप को जोड़ने वाली केबल प्रणाली में खराबी आ जाने से देश में हाई-स्पीड इंटरनेट सेवा बाधित हो सकती है।

दरअसल, समुद्र के अंदर पड़ी दक्षिण पूर्व एशिया-मध्य एशिया-पश्चिमी यूरोप-4 South East Asia-Middle East-West Europe 4 (SEA-ME-WE 4) केबल प्रणाली के जरिए ही भारतीय उप महाद्वीप और पश्चिम एशिया में इंटरनेट की सुविधा मुहैया कराई जाती है तथा इटली के पास 14 अप्रैल 2010 को आई खराबी को ठीक करने के लिए समुद्र के अंदर केबल मरम्मत का काम अगले रविवार, 2 मई तक तक चलने की संभावना है।

(SEA-ME-WE 4 का केबल मानचित्र)
भारत की भारती एयरटेल और टाटा कम्युनिकेशंस सहित दुनिया की 16 अंतरराष्ट्रीय टेलीकाम कंपनियां मिलकर यह प्रोजेक्ट चला रही हैं। सूत्रों का कहना है कि कंपनियां इस प्रयास में लगी हैं कि मरम्मत के इस काम का इंटरनेट सेवा पर कम से कम असर पड़े।
सावधान! अगले एक सप्ताह तक इंटरनेट सेवायें गड़बड़ा सकती हैं
लेख का मूल्यांकन करें
Print Friendly, PDF & Email

मेरी वेबसाइट से कुछ और ...

सावधान! अगले एक सप्ताह तक इंटरनेट सेवायें गड़बड़ा सकती हैं” पर 27 टिप्पणियाँ

  1. जानकारी के लिए धन्यवाद. मुझे तो लगता है कि इसका प्रभाव शुरू भी हो चुका है. कल रात इंटरनेट की स्पीड डायल-अप जैसे दिनों की सी लगी.

  2. कुछ दिनों के लिए गर्मी का असर कम हो जाएगा:)

  3. BTW: बिजली की तरह ही इंटरनेट पर क्या कोई इनवर्टर जैसा औजार नहीं है ?

  4. इस बहामे कुछ दिन आराम ही कर लेंगे!

  5. तकलीफ तो होने ही लगी है BSNL ने बस अभी ही तो bandwidth दोगुनी की थी इस स्पीड का मज़ा बस कुछ दिन ही ले पाए अभी तो 5 से 25 केबीपीएस की ही स्पीड मिल रही है .
    शाम में कभी कभी स्पीड ठीक हो जाती है . इस अप्रैल ने बड़ा परेशान किया खैर कुछ दिन और सही …..

  6. तैय़ार न भी हों तो क्या फर्क पड़ता है।

  7. आज सुबह ही ये खबर अखबार मे पढी थी …………………अब तो बस तैयार रहना है इस स्थिति के लिये।

  8. जानकारी का आभार !
    सजग होकर भी क्या कर लेंगे हम !
    बस देखते रहना है, और ठीक होने की प्रतीक्षा करनी है !

  9. जिंदगी के मेलों में झमेले भी कम नहीं हैं।

  10. जानकारी देने के लिये धन्यवाद पाबला जी!

  11. मैंने तो कल ही शेड्यूल की हैं एक सप्‍ताह की पोस्‍टें। अब तो वे पढ़ी भी न जायेंगी। हटाऊं या न हटाऊं, आगे बढ़ाऊं या न बढ़ाऊं। जो भी करा तो होगा उसका उल्‍टा ही, जैसा सोचा जाएगा, वैसा तो हो ही नहीं सकता। होने दो जी, जो होना है। हम कर ही क्‍या सकते हैं ? ना तो समुद्र अपने हाथ में है न इंटरनेट हमारा है।

  12. सर वहां भी कुछ हिंदी ब्लोग्गर बनाएं क्या ,हो सकता है कि उनकी अनाम टिप्पणियों से तिलमिला कर जल्दी से कार्यवाही हो सके और सेवा बहाल हो जाए फ़टाफ़ट …….. 🙂 🙂 🙂

  13. जी हाँ, बोरिया-बिस्तर बाँध कर बिल्कुल तैयार बैठे हैं…इसी बहाने कुछ दिन बच्चों को कहीं घुमने को तो मिलेगा 🙂

  14. .
    अमाँ, आप इटली कब पहुँच गये ?
    खैर.. जल्दी ठीक करो, और सीधे घर आओ !
    और सुनो, ज़हाज़ की खिड़की से सिर निकालना तो दूर, फ़्राँस की तरफ़ झाँकना भी मत ।

  15. यह तो चिन्ता वाली बात बता रहे हैं आप.

  16. अभी कल ही इस विषय पर चर्चा हो रही थी कि समुन्दर में पड़ी पड़ी केबल बार बार खराब हो जाती हैं जिससे इंटरनेट पर असर पड़ता है…यहाँ खबर मिल रही है कि टाटा ने केबल डालना शुरु भी कर दिया है…

  17. हमारी तो पहले ही गड़बड़ा गई जी । आज ही ठीक हुआ है।

  18. … बिलकुल सही जानकारी … हम तो दो-तीन दिनों से महसूस कर रहे हैं !!!

  19. आज एक मई है अब तक तो सब ठीक चल ही रहा है ।

  20. बावला जी नमस्‍कार
    ज्‍यादा परेशान न करते हुऐ एक अनुरोध कभी भी फुरसत में इन्‍हे दैख कर कुछ सुधार व सजावट की उम्‍मीद तो कर ही सकता हूं,
    आशा हैं सहयोग मिलेगा… सतीश कुमार चौहान भिलाई
    satishkumarchouhan.blogspot.com
    satishchouhanbhilaicg.blogspot.com

इस लेख पर कुछ टिप्पणी करें, प्रतिक्रिया दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *


टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ
Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
[+] Zaazu Emoticons