हिन्दी ब्लॉगर्स और पंजाबी ब्लॉग !

कल बैशाखी पर्व पर, जब सभी की बधाईयां मिल रहीं थीं, तो एक अतिरिक्त संतोष का भी अनुभव हो रहा था। एकाएक बस्तर की यात्रा का कार्यक्रम बन जाने और फिर लौटने में हुयी देर के चलते घुघूती बासूती, मनविंदर भिम्बर, अनिता कुमार, नीरज गोस्वामी , निर्मला कपिला, हरकीरत हकी जैसे हिन्दी में ब्लॉग लिखने वालों की सहभागिता वाले एक गुरुमुखी लिपि के सामूहिक ब्लॉग की कल्पना, मूर्त रूप लेने से पहले ही धुंधलाने लगी थी।कल दोपहर जब इस पंजाबी ब्लॉग का बचाखुचा
काम निपटा रहा था तो एकाएक बिजली चली गई। मन निराशा से भर उठा। पता किया गया तो आश्वासन मिला कि स्थानीय गडबडी है। एक घंटे के भीतर ठीक हो जायेगी। दोपहर बाद एक आकार लिए गुरुमुखी ब्लॉग पर एक नज़र डाली , तो लगा कि अल्पकालिक मेहनत का नतीजा ठीक ही है

अक्सर ही कहा जाता है कि किसी सफलता के पीछे एक महिला का हाथ होता है, लेकिन इस पंजाबी ब्लॉग के मूर्त रूप लेने के पीछे कई महिलाएं है। अनिता कुमार जी से जब ऑनलाइन परिचय हुया था तो उन्होंने बताया कि वे पंजाबी परिवार से

हिन्दी ब्लॉगर्स और पंजाबी ब्लॉग !
लेख का मूल्यांकन करें
Print Friendly, PDF & Email

मेरी वेबसाइट से कुछ और ...

हिन्दी ब्लॉगर्स और पंजाबी ब्लॉग !” पर 11 टिप्पणियाँ

  1. अच्छी जानकारी दी है. सभी हिंदी पंजाबी भाई बहिनों ब्लागरो को वैशाखी की लख लख शुभकामनाये .

  2. एक ही बात कहना चाहेंगे….” बल्ले बल्ले जी तुसी ते फट्टे चक दित्ते….”
    नीरज

  3. अच्‍छा प्रयास है आप लोगों का … बैशाखी की बहुत बहुत शुभकामनाएं।

  4. ਤੁਸੀ ਲੋਗ ਬਹੁਤ ਵਦਿਯਾ ਕੰਮ ਕਰ ਰਹੇ ਹੋ ਜੀ! ਮੈਂ ਸੋਚਦਾ ਸੀ ਕਿ ਮੇਰੇ ਗਵਾਂਡੀ ਅਵਧੀ ਵਿਚ ਵ੍ਹੀ ਜੋਸ਼ ਦਿਖਾਵਨ!

  5. कल इतने उलझे रहे कि बैसाखी पर बधाई देना याद न रहा। जब कि यह याद था कि बैसाखी 13 अप्रेल के स्थान पर 14 अप्रेल को हो रही है क्यों कि संक्रांति आधी रात के बाद थी।
    पंजाबी/गुरुमुखी ब्लाग का विचार बहुत अच्छा है। यह परवान चढ़ेगा।

  6. ए ज्ञान जी की कह रहे ने, कोई दसेगा? …॥:) सच में गुरुमुखी में लिखना जानते हैं या टेक्नोलोजी का कमाल दिखा रहे हैं, सच में Gyan ji proving to be a man of surprises……:) Still Hats off to him for this comment….:) Gyan ji Hip Hip Hurrey

    बैसाखी की आप सब को भी ढेर सारी शुभकामनाएं।

  7. ਬੱਲੇ ਬੱਲੇ, ਤੁਸਾਂ ਤਾਂ ਕਮਾਲ ਕਰ ਦਿੱਤਾ. ਮੈੰਨੁਂ ਤਾਂ ਮਜਾ ਆ ਗਯਾ. ਇੰਨੇ ਸਾਲਾਂ ਦੇ ਬਾਦ ਪਂਜਾਬੀ ਲਿਖਣ ਦਾ ਮਜਾ ਹੀ ਕੁਚ੍ਹ ਹੋਰ ਹੈ.ਹੁਣ ਲਗਦਾ ਹੈ ਇੰਨੇ ਸਾਲਾਂ ਦੀ ਭੁੱਲੀ ਭਾਸ਼ਾ ਜਿਵੇਂ ਫ਼ੇਰ ਜਿਉਂਦੀ ਹੋ ਗਈ ਹੈ.
    ਪਂਜਾਬ ਦੀ ਜੰਮ ਇਸ ਧੀ ਦਾ ਤ੍ਵਹ੍ਨੂਂ ਲਖਾਂ ਲਖ ਧਨਵਾਦ.
    ਇੱਕ ਗੱਲ ਹੋਰ ਦਸਣੀ ਹੈ, ਮੈੰਨੂ ਦੁੱਜਾ ਸਥਾਨ ਨਹੀਂ ਪਹਲਾ ਸਥਾਨ ਪ੍ਰਾਪਤ ਹੋ੍ਯਾ ਸੀ. ਹਾਹਾ.
    ਘੁਘੂਤੀ ਬਾਸੂਤੀ

  8. पाबला जी,
    नमस्कार।
    पंजाबी हूं पर सारा बचपन,पढाई वगैरह कलकत्ते मं होने के कारण बंगला धाराप्रवाह बोल, पढ, समझ जाता हूं। पर पंजाबी सिर्फ बोल और समझ पाता हूं (वह भी अपनी माता जी के कारण) पर पढने में दिक्कत होती है। वैसे सीखने की कोशिश में कुछ हद तक सफल रहा था पर फिर अभ्यास छूटता चला गया।

इस लेख पर कुछ टिप्पणी करें, प्रतिक्रिया दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *


टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ
Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
[+] Zaazu Emoticons