गूगल का Caffeine: अगली पीढ़ी का नशा!?

मैं कल ही अपने ब्लॉगर मित्र से कह रहा था कि जब भी गूगल की सेवाएँ लड़खड़ाती हैं कुछ ना कुछ अवश्य सामने आता है गूगल के ही द्वारा!

पिछले दिनों से कतिपय रूकावटों से यह संशय बलशाली होने ही लगा था कि गूगल ने अपनी अगली पीढ़ी के सर्च इंजन को डेवलपर्स के अवलोकन हेतु प्रस्तुत कर दिया। इसका कोड नाम कैफीन रखा गया है जिसे अंग्रेजी में लिखा जाए तो Caffeine

गूगल ने यह तो नहीं बताया है वर्तमान सर्च इंजन की संरचना में किस तरह का बदलाव किया गया है किन्तु वह दावा करता है कि यह उन्नत सर्च इंजन ज़्यादा गतिशील है, अधिक शुद्धिपूर्ण है, व्यापक है आदि आदि।

अब तक आये परिणाम बताते हैं कि बेशक यह सेकेंड के हजारवें हिस्सों के बराबर हो किन्तु वर्तमान सर्च परिणामों से यह Caffeine लगभग आधा समय लेता है।

आप भी देखना चाहते हैं तो क्लिक कीजिए http://www2.sandbox.google.com/

Caffeine से संतुष्ट हों या असंतुष्ट अपनी प्रतिक्रिया/ सुझाव यहाँ दे सकते हैं

अपडेट@2015: कालान्तर में इन लिंक्स को गूगल ने हटा दिया

लेख का मूल्यांकन करें

गूगल का Caffeine: अगली पीढ़ी का नशा!?” पर 9 टिप्पणियाँ

  1. नयी जानकारी …धन्यवाद….और मुझे लगता है अपने इन सतत प्रयासों और प्रयोगों के कारण ही गूगल बाबा ने अपना एक स्थान बना रखा है..जो भी हो कुछ अच्छे की प्रतीक्षा रहेगी…

  2. जानकारी बढ़ाने के लिए आभार। आपके प्रयास से इंटरनेट के संबंध में हमारा हमेशा ज्ञानर्धन होते रहता है।

  3. गूगल सर्च इंजन इसी प्रगति के कारण विश्व में नंबर एक बना हुआ है।

  4. जानकारी बहुत बढ़िया है।
    श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ।

  5. आपकी बात से सहमत हूँ।
    जन्माष्टमी और स्वतन्त्रता-दिवस की बधाई स्वीकार करें।

  6. अच्छी जानकारी.. हैपी ब्लॉगिंग.

इस लेख पर कुछ टिप्पणी करें, प्रतिक्रिया दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *


टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ