दुनिया के ब्लॉगरो, एक हो

अगर आप समझ रहे हैं कि मैं, दुनिया के ब्लॉगरों की कोई यूनियन बना रहा हूँ तो गलत हैं। वैसे गलती तो अधिकांश ब्लॉगर कर ही रहे हैं। इस गलती को देखकर अक्सर झुंझलाहट होती है, भले ही अनूप शुक्ल जी मासूमियत से पूछें कि गुस्सा क्यों आता है!? दो दिन पहले तो हद ही […]
Continue reading…

 

हिन्दी ब्लागरों के जन्मदिन का आटोमेटिक रिमाईन्डर अपने ईमेल पर पायें

हिंदी ब्लॉगरों के जनमदिन एक ही स्थान पर मिलने वाली मेरी पोस्ट पर अरविन्द मिश्रा जी ने टिप्पणी करते हुए इच्छा जाहिर की थी कि यदि ईमेल आदि के जरिये, समय से पहले ही आटोमैटिक जानकारी मिल जाए तो कितना अच्छा होगा। मैं बताना चाहता हूँ कि यह सुविधा गूगल कैलेंडर में पहले से मौजूद है। इसके […]
Continue reading…

 

जिनका पहले से ही छोटा है, या काला है, वे यहाँ न देखें

अभी दो दिन पहले ही उस लड़की ने मुझे उकसाया, जिसके बारे में बातें मुम्बई से रवाना होते हुये प्लेटफॉर्म पर की गयी थीं। उसका कहना था कि होली पर किसी तरह की शरारत न किये जाने पर त्यौहार का मज़ा कहाँ रह जायेगा? टाँग खिंचाई का यही एक मौका रहता है जिसका कोई बुरा […]
Continue reading…