सितंबर में जन्मे लोग और ज्योतिष

सितंबर में जन्मे लोग किस तरह का व्यक्तित्व रखते हैं और इनके बारे में ज्योतिष विज्ञानं क्या कहता है? इसके बारे में उत्सुकता कुछ दिनों पहले ही हुई, जब एक मित्र को इन्टरनेट से देख देख कर यह सब बताते मज़े लिए जा रहा था.बहुत  पहले इस तरह की कई जिज्ञासाएं होती थीं. कभी सड़क […]
Continue reading…

 

बैंगलोर यात्रा: एक दिन पहले

दो ब्लॉगरों द्वारा अपनी स्मार्ट कार के सहारे सड़क से की गई भिलाई बैंगलोर यात्रा की योजना कैसे बनी, तैयारी में क्या कुछ हुया, पढ़िए इस लेख में
Continue reading…

 

नाक कान गले के डॉक्टर ने किया मेरे दांतों का इलाज़ !

अगर नाक कान गले का डॉक्टर दांतों का इलाज़ कर दे तो हैरानी होगी ही. पढ़िए यह दिलचस्प किस्सा
Continue reading…

 

जब हाथी के नीचे आते बचे हम

क्या यह संभव है कि कोई हाथी सड़क पर हो और स्कूटर चलाते कोई निकल जाए उसके नीचे से? पढ़िए दिलचस्प किस्सा
Continue reading…

 

बजाज स्कूटर ने सारा नशा उतार दिया!

आखिर एक एक्सपर्ट ने मामूली से बजाज स्कूटर में ऐसा क्या देखा कि उसका सारा नशा ही उतर गया!
Continue reading…

 

पंजाब से भिलाई की वो राह जिस पर दुबारा नहीं जाना मैंने!

सड़क मार्ग द्वारा पंजाब से भिलाई तक की कार से हुई ऐसी यात्रा जिसकी राहों पर दुबारा जानबूझ कर नहीं जाना मैंने
Continue reading…

 

उड़ती चिड़िया के पर नहीं, उड़ते विमान गिनिए

उड़ते विमान की जानकारियों से भरी वेबसाइट का विवरण देखिये यहाँ
Continue reading…

 

मैं कैसे उसे जानवर कह देता?

हमारी बिटिया ने अपने बचपन में मुझसे एक दिन जिज्ञासा प्रकट की कि ‘दुनिया में सबसे खतरनाक, बददिमाग जानवर कौन सा है?’ मेरे मुँह से बेसाख्ता निकल पड़ा ‘आदमी!इंसान!’ वह हैरान सी फिर पूछ बैठी कि ‘वो कैसे?’ तब तक मैं संभल चुका था और बात को टालने की कोशिश की कि जब बड़े हो […]
Continue reading…

 

जनमदिन के मौके पर हुई दो ब्लॉगरों से पहली मुलाक़ात

इस बार जनमदिन पर पोस्ट लिखना टलते चला आ रहा था क्योंकि सभी वेबसाईट्स के सर्वर बदले जा रहे थे और बिंदास तरीके से लिखने का समय ही नहीं मिला। सर्वर संबंधित काम तो खतम हो गया लेकिन कई छोटी छोटी बातें अभी भी तनाव बढ़ा रहीं। इस बार मन कुछ उदास सा था जनमदिन […]
Continue reading…

 

आधी सदी का सफ़र और एक नई शुरूआत

आज 21 सितंबर को, इस धरा पर मानव जीवन का सफ़र तय करते पाश्चात्य गणना पद्धति के हिसाब से आधी सदी का वक्त बीत गया। इस मौके पर कल रात माँ बहुत याद आई। सिर्फ़ कल्पना ही कर पाया कि वह कैसे बलैंय्या लेती अपने इस बच्चे की। इससे पहले मन कुछ और उदास होता, […]
Continue reading…