धधकती आग में घिरी मारूति वैन से कूद कर जान बचाई हमने

चलती मारूति वैन में लगी आग के हादसे में अपनी जान बचाने वाला लोमहर्षक संस्मरण
Continue reading…

 

वर्षों पुरानी तमन्ना पूरी हुई, गुरूद्वारों के शहर नांदेड़ में

पुलिस वालों के साथ कारों की दौड़ सरीखे फिल्मी अंदाज़ के बाद दूसरे ग्रह की सैर का आनंद लेने से वंचित हो हम परभनी शहर से रवाना हो 15 जुलाई की सुबह 8 बजे दाखिल हुए गुरूद्वारों का शहर कहलाते नांदेड़ शहर में। पिछले कई वर्षों से यह इच्छा मन में थी कि नांदेड़ के […]
Continue reading…

 

किसी दूसरे ग्रह की सैर करने से चूके हम!

उन पुलिस वालों के साथ कारों की दौड़ सरीखे फिल्मी अंदाज़ में रुमाल एक हाथ से दूसरे हाथ में लेते हुए मैं परभनी शहर में दाखिल हुआ। बमुश्किल साढ़े तीन बजे थे सुबह के। सामने ही दिखा एक पेट्रोल पम्प। पुलिस वालों की हिदायत पर हमें रूकना ही है और मारूति वैन में पेट्रोल भी […]
Continue reading…

 

आधी रात को पुलिस गश्ती जीप ने पीछा करते हुए दौड़ाया

सड़क मार्ग से महाराष्ट्र घूमने के बाद लौटते हुए ऐसा कुछ हुआ कि आधी रात पुलिस की जीप हमारा पीछा करती रही
Continue reading…

 

नीरज गोस्वामी का सत्यानाश, Kshama की निराशा और शेरे-पंजाब में पैंट खींचती वो दोनों…

तीन ब्लॉगरों वाले परिवार में एक शाम बिताने के बाद 13 जुलाई की अलसुबह आँख लगी तो विवेक रस्तोगी जी से मुलाकात की योजना बन चुकी थी। लेकिन नींद खुली 11 बजे और उठते ही मामाजी के परिवार में कुछ अफ़रातफ़री का माहौल दिखा। बताया गया कि मामीजी के जो बड़े भाई सा’ब, जो एक […]
Continue reading…

 

‘बिग बॉस’ से आमना-सामना, ममता जी की हड़बड़ाहट, आधी रात की माफ़ी और ‘जादू’गिरी हुई छू-मंतर

बिग बॉस धारावाहिक के बिग बॉस, विविध भारती के युनुस खान, ममता सिंह और जादू से हुई मुलाक़ात, मुंबई में
Continue reading…

 

घुघूती बासूती जी से मुलाकात

11 जुलाई को मुम्बई की सड़कों पर 145 किलोमीटर घूमने के बाद अब बारी थी यथासंभव कुछ ब्लॉगरों से मिलने की। विवेक रस्तोगी जी, युनूस खान जी, घुघूती बासूती जी सूची में थे। Kshama जी से भी इरादा था मिलने का लेकिन पता चला कि वे मुम्बई में नहीं हैं। बताया किसी को नहीं क्योंकि […]
Continue reading…

 

लुढ़कती मारूति वैन और ये बदमाशी नहीं चलेगी, कहाँ हो डार्लिंग?

एक बार फिर गोवा की मशहूर वास्तविक रंगीनी देखने का इरादा लिए 10 जुलाई की रात मैं पहुँच गया वापस, खारघर, नवी मुम्बई में मामाजी के घर। 11 जुलाई को था रविवार। बिटिया ने पहले ही चेतावनी दे दी थी कि बहुत हो गया अब! रविवार को, दो बच्चों वाला ममेरे भाई का परिवार छुट्टी […]
Continue reading…

 

सुनहरी बीयर, खूबसूरत चेहरे, मोटर साईकिल टैक्सियाँ और गोवा की रंगीनी

ब्रिटेन में जनमी-पली उस युवती की सहायता कर हम चल पड़े रात्रि विश्राम के लिए शहर की ओर। दूसरे दिन, 10 जुलाई को समुद्र-तट की ओर आना होगा कि नहीं, इस ख्याल को छोड़ हम ‘मार्केट’ इलाके में KTC बस स्टैण्ड के पहले ही उतर गए बस से। चमचमाती बहुमंजिला दुकानों व मल्टीप्लेक्स पर नज़रें […]
Continue reading…

 

बैतूल की गाड़ी, विश्व की पहली स्काई-बस, घर छोड़ आई पंजाबिन युवती और गोवा समुद्री तट

गोवा भ्रमण में मिले दिखे दिलचस्प नज़ारे
Continue reading…

 

कोंकण रेल्वे की अविस्मरणीय यात्रा और रत्नागिरि के आम

कोंकण रेल्वे द्वारा संचालित रेलगाड़ी की सवारी करते गोवा पहुँचने का रोचक चित्रमय वर्णन
Continue reading…

 

चूहों ने दिखाई अपनी ताकत भारत बंद के बाद, कच्छे भी दिखे बेहिसाब

घुघूती बासूती जी से मुलाकात की सोच रखी थी सतीश पंचम जी से मुलाकात के बाद। यह भी मन में था कि समय रहा तो विवेक रस्तोगी जी से भी मुलाकात कर ली जाए। लेकिन कहा जाता है ना कि जो सोचो वह कभी होता है क्या? उस सोमवार 5 जुलाई को जब तैयार होने […]
Continue reading…