कोहरा होता हमारी मौत का ज़िम्मेदार

सागर शहर से आगरा पहुंचते हुए राह में मिला कोहरा और एक घातक दुर्घटना से बचे हम
Continue reading…

 

मेरी दिल्ली यात्रा: सूचना मिलते ही मुरैना स्टेशन पर पहुँचे भुवनेश शर्मा जी

पिछले माह, अक्टूबर की 11 तारीख को आधी रात बीत रही थी। अजय कुमार झा चैट पर बतिया रहे थे। एकाएक उनकी ओर से लिखा हुआ आया ‘… सोच रहा हूं आप लोगों से मिलने आ जाउं… शायद इसी साल आपकी हमारी मुलाकात हो जाये…बिल्कुल आमने सामने… शायद दिसम्बर में’। तब तक वर्षों से मेरी […]
Continue reading…