… वो शाम कुछ अज़ीब थी

रंग बिरंगी दुनिया की वो शाम जो मुझे इम्तिहान के बाद एक बार फिर अकेला छोड़ गई